Connect with us

Featured

ग्रामीण युवाओं के लिए बढ़ेंगे रोजगार के अवसर : गडकरी

Published

on

“स्किल्स ऑन व्हील्स – कौशल वाहिनी” लॉन्‍च

नागपुर. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि ग्रामीण युवाओं को डिजिटल रूप से साक्षर बनाने से रोजगार के अवसर बढ़ाने में मदद मिलेगी। “स्किल्स ऑन व्हील्स – कौशल वाहिनी” के फ्लैग ऑफ़ समारोह को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि डिजिटल रूप से सुसज्जित यह वाहन द इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स सोसाइटी (आईसीईएस) के सहयोग से सोलर इंडस्ट्रीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा शुरू की गई एक सीएसआर परियोजना है। इस अवसर पर सोलार इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष सत्यनारायण नुवाल, आईसीईएस के अध्यक्ष डा. एस.एल. स्वामी के साथ नगर पंचायत कोराडी के राजेश रंगारी, आईसीईएस की महानिदेशक माया ठाकुर समेत अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने इस अनूठी पहल के लिए सोलर इंडस्ट्रीज और आईसीईएस की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह एक नए युग की शुरुआत का प्रतीक है, जो प्रधानमंत्री मोदी के डिजिटल भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप है।यह  एक महत्वाकांक्षी परियोजना है जो जीवन और समुदायों को बदलने का वादा करती है ।

सोलर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष सत्यनारायण नुवाल ने शिक्षा के माध्यम से सशक्तिकरण के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने नितिन गडकरी को उनके समर्थन और मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया। तो आईसीईएस के अध्यक्ष डॉ. एस.एल.स्वामी   ने बताया कि तीन माह में 1200 युवाओं को प्रशिक्षित किया जायेगा। प्रशिक्षण में बुनियादी कंप्यूटर से लेकर साइबर सुरक्षा तक को शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि साथ ही अभिभावकों को साइबर साक्षरता के बारे में भी जागरूक किया जाएगा।

क्या है “कौशल वाहिनी”

  • यह एक अत्याधुनिक वातानुकूलित बस है, जो कंप्यूटर प्रशिक्षण के लिए आवश्यक उपकरणों और इंटरनेट कनेक्टिविटी से सुसज्जित है।
  • यह कौशल वाहिनी न केवल लक्षित समूहों को सूचना प्रदान करेगी, बल्कि शाम के समय निर्धारित स्थानों पर जनता के लिए भी उपलब्ध होगी।
  • इसका उद्देश्य स्थानीय लोगों को डिजिटल-आधारित सेवाओं से लाभ उठाने के अवसर प्रदान करना, सरकारी कल्याणकारी योजनाओं का प्रचार करना और कार्यक्रमों के माध्यम से जागरूकता बढ़ाना है।

1200 ट्रेनीज होंगे  कवर

यह कौशल वाहिनी महादुला, वालनी, देवलापार तलोधी, मनसर, नागलवाड़ी, अदासा, बड़ेगांव, धापेवाड़ा, कामठी, खापा और कोराडी आदी स्थानों पर जाएगी। प्रत्येक स्थान पर 7 दिनों के लिए वाहिनी तैनात रहेगी, जिसमें प्रत्येक स्थान पर 30 प्रतिभागियों के 5 बैचों को प्रशिक्षण दिया जाएगा, जिसमें प्रत्येक स्थान लगभग 150 उम्मीदवार होंगे और 1200 प्रशिक्षुओं को कवर किया जाएगा। एनएसडीसी भागीदार के रूप में, आईसीईएस सफल उम्मीदवारों को प्रमाणपत्र जारी करेगा और उनकी रोजगार क्षमता को बढ़ाएगा।

Featured

गडकरी की ‘विकास’ से टक्कर

Published

on

By

वेब डेस्क. नागपुर. लोकसभा चुनाव में नागपुर की प्रतिष्ठित सीट पर कांग्रेस हाईकमान ने पूर्व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को चुनौती देते हुए नागपुर शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष तथा पूर्व विधायक विकास ठाकरे को उतार दिया है। नागपुर लोकसभा सीट पर कड़ी टक्कर है। संघ समेत देश की नजरें इस सीट पर गढ़ी हुईं हैं। अब देखना यह है कि क्या गडकरी तीसरी बार चुनकर अपनी हैट्रिक पूरी करेंगे या ठाकरे गडकरी का सपना भंग करके इतिहास रच देंगे? बता दें कि नागपुर लोकसभा में वर्ष 2014 और 2019 में गडकरी ने कांग्रेस नेता विलास मुत्तेमवार और नाना पटोले को पराजित कर विजय हासिल की थी।

असंतुष्ट बिगाड़ सकते हैं ‘खेला’

बताया जाता है कि पार्टी का एक गुट गडकरी के ही खिलाफ काम कर रहा है जबकि कांग्रेस में हाईकमान के आदेश के बाद गुटबाजी करने वाले नेता ठाकरे के नाम पर एक हो गए हैं। इनकी एकता विकासपुरूष को भारी पड़ सकती है। इसके अलावा जातिगत समीकरण भी जीत के लिए महत्वपूर्ण है। कुणबी, तेली, बौध्द और मुस्लिम समाज का गठजोड़ किसी भी प्रत्याशी की हार-जीत तय करेगा।

रामटेक से बर्वे को टिकट

कांग्रेस हाईकमान ने रश्मि बर्वे के फर्जी जाति प्रमाणपत्र के आरोपों के बावजूद रश्मी बर्वे के नाम का घोषणा कर दी है।हालांकि मंगलवार को हाईकोर्ट में उनके मामले पर सुनवाई होनी है। इधर कांग्रेस विधायक राजू पारवे के शिंदे गुट में शामिल होने की चर्चा है जिसका गुट में जमकर विरोध किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो  पूर्व सांसद तुमाने की जगह पारवे को टिकट दिया जा सकता है। संभावना है कि आज यानी रविवार शाम होने वाली बैठक में इसकी घोषणा भी की जा सकती है।

Continue Reading

Featured

5 सीटों पर NDA में नहीं बन रही बात

Published

on

By

वेब डेस्क. नागपुर . पांच सीटों को लेकर एनडीए में रस्साकशी चल रही है। बता दें कि  महाराष्ट्र में 19 अप्रैल को पहले चरण का मतदान होना है। लेकिन अभी भी इन सीटों पर उठापटक जारी है। इन सीटों को लेकर शिंदे की शिवसेना और बीजेपी में तनाव बढ़ता ही जा रहा है।

यहां फंस रहा  पेंच

अमरावती : बीजेपी या बासी?

महाराष्ट्र की अमरावती सीट को लेकर शिंदे की शिवसेना और बीजेपी के बीच टसल चल रही है। उप मुख्यमंत्री फडणवीस ने साफ कह दिया है कि अमरावती से बीजेपी उम्मीदवार ही मैदान में उतरेगा। वहीं शिवसेना  नेता आनंदराव बासी अमरावती सीट पर अपनी दावेदारी छोड़ने को तैयार नहीं हैं। दोनों के लिए ये सीट लिए अहम है।

रामटेक : क्या पार्वे को मिलेगी टिकट?

यह सीट फिलहाल शिंदे की पार्टी शिवसेना के पास है और कृपाल तुमाने यहां से सांसद हैं। बीजेपी यहां से राजू पार्वे को टिकट देने के मूड में है। लेकिन शिंदे की शिवसेना अपना उम्मीदवार उतारना चाहती है।

वाशिम-यवतमाल : भावना गवली को फिर मिलेगी टिकट?

वाशिम-यवतमाल में शिंदे गुट निवर्तमान शिवसेना सांसद भावना गवली को फिर से टिकट देने पर अड़ी हुई है।जबकि बीजेपी चाहती है कि या तो शिंदे के मंत्री संजय राठौड़ को उम्मीदवार बनाया जाए या फिर यहां से बीजेपी का उम्मीदवार चुनाव लड़े।

सतारा : अजित पवार या उदयन राजे?

अजित पवार घोषणा कर चुके हैं कि सतारा लोकसभा सीट से उनकी पार्टी का उम्मीदवार मैदान में उतरेगा। वहीं बीजेपी के उदयन राजे चाहते हैं कि सतारा से वे स्वंय चुनाव लड़ें।

छत्रपति संभाजीनगर : भुमरे और कराड़ा में से कौन?

छत्रपति संभाजीनगर सीट पर शिवसेना और बीजेपी दोनों ही पार्टियां अपना- अपना दावा कर रही हैं। शिंदे गुट से मंत्री संदीप भुमरे के चुनावी मैदान में उतरने की चर्चा है तो वहीं बीजेपी से भागवत कराड़ा के चुनाव लड़ने की उम्मीद है। बता दें कि कुछ दिन पहले जब गृह मंत्री अमित शाह महाराष्ट्र दौरे पर आए थे तब उन्होंने छत्रपति संभाजीनगर सीट से बीजेपी का उम्मीदवार होने का संकेत दिया था.

Continue Reading

Featured

केयर अस्पताल में मनाया गया विश्व किडनी दिवस

Published

on

By

किडनी रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाना जरूरी : डॉ. देशमुख

नागपुर. गंगा केयर हॉस्पिटल्स नागपुर के नेफ्रोलॉजी और यूरोलॉजी विभाग ने गुरुवार को केयर हॉस्पिटल्स नागपुर में विश्व किडनी दिवस मनाया। इस अवसर पर डायलिसिस मरीज और उनके परिवार के सदस्य केयर हॉस्पिटल्स में विशेष कार्यक्रम के लिए एकत्र हुए। जागरूकता कार्यक्रम का उद्घाटन प्रबंध निदेशक और वरिष्ठ सलाहकार हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. वरुण भार्गव, अस्पताल के मुख्य परिचालन अधिकारी डॉ. किशन नाग, नेफ्रोलॉजी और ट्रांसप्लांट फिजिशियन के एचओडी डॉ. उत्कर्ष देशमुख, सलाहकार यूरोलॉजिस्ट डॉ. रितेश सातार्डी, डॉ. स्नेहलमकेश्वर (सलाहकार यूरोलॉजिस्ट) ने किया। डॉ. रीता भार्गव (आहार सलाहकार) गंगा केयर हॉस्पिटल के कई वरिष्ठ डॉक्टर, नर्सिंग छात्र, डायलिसिस मरीज कर्मचारी सहित बड़ी संख्या में लोगों ने कार्यक्रम में भाग लिया।

इस दौरान नेफ्रोलॉजी और ट्रांसप्लांट फिजिशियन के एचओडी डॉ. उत्कर्ष देशमुख ने कहा कि किडनी की बीमारी को रोकने और इस तरह समुदाय में सीकेडी के प्रसार को कम करने के बारे में जनता को जागरूक किया जा रहा है।अधिकांश किडनी रोग मौन हैं और क्रोनिक किडनी रोग (सीकेडी) साइलेंट किलर है, सीकेडी को जोखिम कारकों वाले लोगों में रोका जा सकता है और स्वस्थ आहार का पालन करके और रक्तचाप और रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखकर नियंत्रित किया जा सकता है, हमारा उद्देश्य मुख्य रूप से जागरूकता पैदा करना है।

किडनी रोग तीसरा सबसे बड़ा हत्यारा

कैंसर और हृदय रोग और मधुमेह और उच्च रक्तचाप के बाद किडनी रोग तीसरा सबसे बड़ा हत्यारा है, जो 10 क्रोनिक किडनी रोगों में से छह के लिए अंतर्निहित कारण है। केयर हॉस्पिटल के डॉ. उत्कर्ष देशमुख कहा कि अगर किडनी की बीमारियों का जल्द पता चल जाए तो डायलिसिस और किडनी प्रत्यारोपण को रोका जा सकता है और मरीज अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और अपने जानने वाले लोगों के बीच जोखिम कारकों के बारे में जागरूकता पैदा कर सकते हैं।

45 मिनट पैदल चलना  जरूरी

परिचालन अधिकारी डॉ. किशन नाग ने कहा कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाना है। स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा देने के लिए 45 मिनट की साधारण सैर पर्याप्त है। तनावपूर्ण जीवन घातक साबित हो सकता है इसलिए व्यक्ति को धूम्रपान कम करने जैसी स्वस्थ प्रथाओं में संलग्न होना चाहिए।उन्होंने कहा कि  मांस से परहेज करें और नियमित रूप से सैर करें।

Continue Reading

Trending