Connect with us

nagpur samachar

स्टील  डस्टबिन पर चोरों की नजर

Published

on

मनपा प्रशासन नहीं ले रहा सुध

नागपुर. नागपुर महानगर पालिका द्वारा चंद महीनों पूर्व लगाए गए स्टील के डस्टबिन चोरों के लिए वरदान साबित हो रहे हैं. लाखों रुपये की लागत से “स्वच्छता अभियान”,” “स्वच्छ,सुंदर, स्वस्थ नागपुर” का संदेश देने वाले इन डस्टबिनों पर अब चोरों की नजर पड़ चुकी है और वे गीले व सूखे कचरे के लिए लगाए गए स्टील ड्रमों को रात के वक्त चुरा रहे हैं तथा अपनी आर्थिक सेहत सुधार रहे हैं.

 एक प्रेस विज्ञप्ति में जागरूक नागरिक दिनेश श्रीवास्तव ने मनपा की लचर कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा  कि, हैरानी की बात है कि शहर में इस तरह के स्टील वाले महंगे  डस्टबिन लगाने की किसके दिमाग की उपज है? अगर इस तरह के  डस्टबिन लगाना ही था तो उनकी मजबूती और सुरक्षा का भी ध्यान रखा जाना जरूरी था.

ऐसे हो रही चोरी

जिस राड के सहारे इन ड्रमों को लगाया गया है, उन राड्स को चोर आसानी से काट रहे हैं, क्योंकि उनकी मोटाई काफी कम है. हाल ही में टेलिफोन चौक के समीप सेंट्रल एवेन्यू  के दोनों साइड पर लगाए गए डस्टबिन में से चार ड्रमों को अज्ञात चोर चुरा ले गए. हैरानी की बात है कि, भीड़भाड़ वाले इस क्षेत्र से ड्रम चोरी हो गए, लेकिन इस बारे में अब तक कोई सुध नहीं ली गई.

ये है हालत….एक ड्रम गायब.

सीसीटीवी खंगालना जरूरी

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, जहां से यह स्टील ड्रम चोरी हुए हैं, वहां आसपास सीसीटीवी भी लगे हैं. इसलिए पूरी संभावना है कि सीसीटीवी फुटेज में ये चोर कैद हुए होंगे. अगर इन कैमरों की जांच की जाए तो इन चोरों को आसानी से पकड़ा जा सकता है. अगर इन डस्टबिनों से इसी तरह स्टील के ड्रम चोरी किए जाते रहे तो डस्टबिन के नाम पर सिर्फ फ्रेमें ही बचेंगी. मनपा प्रशासन से अपील है कि, स्वच्छता मिशन में सेंध लगाने वाले ऐसे तत्वों की शिनाख्त पर सख्त कार्रवाई की जाए और ऐसी उपाय योजनाएं की जाएं कि यह महंगे ड्रम सही सलामत रहें.

NAGPUR

नागपुरकरों के लिए शेयर ऑटो सुविधा

Published

on

By

महामेट्रो का नए साल का तोहफा

नागपुर. अब नागपुरकरों के लिए मेट्रो स्टेशन तक पहुंचना और यात्रा के बाद गंतव्य तक पहुंचना बहुत आसान हो जाएगा। क्योंकि अब महाराष्ट्र मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने यात्रियों के लिए सोमवार से शेयर ऑटोरिक्शा की व्यवस्था कर दी है। क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी के  प्रस्ताव को हाल ही में कलेक्टर की अध्यक्षता वाली परिवहन समिति ने मंजूरी दे दी है और नए साल में महामेट्रो द्वारा यह सेवा शुरू की जाएगी। इससे मेट्रो स्टेशन तक पहुंचना और मेट्रो से यात्रा कर गंतव्य तक पहुंचना बहुत सुविधाजनक हो जाएगा। यह नागपुर के लोगों के लिए नए साल का उपहार होगा। महामेट्रो नए साल में यात्रियों के लिए शेयर ऑटो सेवा शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

Continue Reading

nagpur samachar

कांग्रेस MLA सुनील केदार को झटका

Published

on

By

बैंक घोटाले में 5 साल की सजा, 21 साल बाद आया फैसला

नागपुर. पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता सुनील केदार की मुश्किलें और बढ़ गईं हैं। बहुचर्चित नागपुर जिला बैंक घोटाला मामले में कोर्ट का फैसला आ गया है। नागपुर की विशेष अदालत ने कांग्रेस विधायक सुनील केदार और पांच अन्य को दोषी ठहराया है। जबकि सबूतों के अभाव में तीन अन्य को बरी कर दिया है। इस मामले में केदार को 5 साल की सजा सुनाई गई है। साथ ही 12.50 लाख रुपये का जुर्माना भी लगा है। नागपुर जिला केंद्रीय सहकारी बैंक (एनडीसीसीबी) घोटाला मामलों की सुनवाई कर रही विशेष अदालत ने शुक्रवार को सावनेर से कांग्रेस विधायक सुनील केदार को 150 करोड़ रुपये के घोटाले में दोषी ठहराया है। घोटाले के अन्य आरोपियों को भी सजा सुनाई गई है। महाविकास अघाडी (एमवीए) सरकार में मंत्री रहे सुनील केदार से जुड़े इस मामले में दो दशक से अधिक समय बाद फैसला आया है।

केदार समेत 11 आरोपी थे मौजूद

 

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ज्योति पेखले-पुरकर की अदालत में दोषियों को सजा सुनाई गई। सुनवाई के दौरान केदार के अलावा अन्य आरोपी भी अदालत में मौजूद थे। जांच एजेंसी की चार्जशीट में केदार और 11 अन्य आरोपियों पर आईपीसी की धारा 406, 409, 468, 471, 120-बी और 34 के तहत आरोप लगाए गए थे। आरोपियों में बैंक के पूर्व महाप्रबंधक अशोक चौधरी, तत्कालीन मुख्य अकाउंटेंट सुरेश पेशकर, महेंद्र अग्रवाल, श्रीप्रकाश पोद्दार, सुबोध भंडारी, कानन मेवावाला, नंदकिशोर त्रिवेदी, अमित वर्मा और मुंबई के स्टॉकब्रोकर केतन सेठ शामिल हैं। हालांकि बॉम्बे हाईकोर्ट ने अग्रवाल के मामले पर रोक लगाई थी, जबकि मेवावाला फरार है।

क्या है मामला

2002 में जब 150 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया था तब कांग्रेस नेता बैंक के अध्यक्ष थे। सीआईडी के तत्कालीन उपाधीक्षक किशोर बेले इस घोटाले के जांच अधिकारी हैं। जांच पूरी कर उन्होंने 22 नवंबर 2002 को अदालत में चार्जशीट दाखिल की थी। तभी से विभिन्न कारणों से सुनवाई पूरी नहीं हो सकी और मामला लंबित था।

Continue Reading

nagpur samachar

24 घंटे में 3.4 डिसे लुढ़का पारा

Published

on

By

विदर्भ में गोंदिया सबसे ठंडा

नागपुर. स्मार्टसिटी में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। पूरे विदर्भ में सबसे ठंडे शहरों में नागपुर तीसरे स्थान पर है जबकि गोंदिया पहले स्थान पर है ।नागपुर में पिछले 24 घंटे में न्यूनतम तापमान 3.4 डिसे लुढ़का है। मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले 2 दिनों में 2 से 3 डिसे. पारा लुढ़क सकता है जिससे ठंड और बढ़ेगी। मंगलवार को गोंदिया में न्यूनतम तापमान 9 डिसे, यवतमाल में 9.1 और नागपुर में 9.8 डिसे दर्ज किया गया है। विदर्भ के सभी शहरों के न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है।

कहां, कितनी ठंड

शहर      न्यूनतम तापमान

गोंदिया             9.0

यवतमाल           9.1 

 नागपुर              9.4

 वाशिम            10.0 

 चंद्रपुर              11.0

  वर्धा                 11.4

 अमरावती        12.5

बुलढाणा           12.8

अकोला             13.5

Continue Reading

Trending