Connect with us

kaam ki baat

केंद्रीय कर्मियों की बल्ले-बल्ले

Published

on

सरकार ने दिया तोहफा , DA 4% बढ़ा

नई दिल्ली. सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को बड़ा तोहफा देते हुए महंगाई भत्ता और महंगाई राहत में 4 फीसदी का इजाफा कर दिया है. अब दोनों 38 फीसदी से बढ़कर 42 फीसदी हो गए हैं. मौजूदा बढ़ोतरी 1 जनवरी 2023 से प्रभावी होगी. इससे सरकार पर हर साल 12,815 करोड़ रुपए का वित्तीय भार पडेगा. इससे केंद्र सरकार के 42 फीसदी डीए का फायदा 47.58 लाख कर्मचारियों और 42 फीसदी महंगाई राहत का फायदा 69.76 लाख पेंशनर्स को होगा. इससे केंद्र सरकार पर 12,815 करोड़ रुपए का वित्तीय भार पड़ना तय है.

क्या है भत्ता और राहत में फर्क

महंगाई भत्ता सरकारी कर्मचारियों को दिया जाता है, जबकि महंगाई राहत पेंशनर्स के लिए है. इससे पहले केंद्र सरकार के एक करोड़ से अधिक कर्मचारियों और पेंशनर्स को 38 फीसदी महंगाई भत्ता मिल रहा था. बता दें केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनर्स के डीए एवं डीआर में साल में दो बार जनवरी और जुलाई में बदलाव होता है.

नहीं मिलेगा बकाया

केंद्र ने 18 महीने के डीए बकाया पर एक स्पष्टीकरण जारी किया और कहा कि कर्मचारियों के 18 महीने के महंगाई भत्ते (डीए) के बकाया को जारी नहीं किया जाएगा. इसे कोविड महामारी के दौरान रोक दिया गया था. इस रोक से केंद्रीय कर्मचारियों को 34 हजार करोड़ रुपये की बचत हुई थी.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

kaam ki baat

अब ऑनलाइन गेमिंग पर 28% जीएसटी

Published

on

By

1 अक्टूबर से लागू होगी नई दरें

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में ऑनलाइन गेमिंग, हार्स रेसिंग और कैसिनो पर 28 प्रतिशत जीएसटी लागू करने का फैसला किया गया। वित्त मंत्री ने कहा कि ऑनलाइन गेमिंग पर 28 प्रतिशत जीएसटी की दर 1 अक्टूबर से लागू हो जाएगी। इसे लागू होने के छह महीने बाद एक बार फिर से इसपर रिव्यू किया जाएगा। वित्त मंत्री ने बताया कि ऑनलाइन गेमिंग और हॉर्स रेसिंग पर 28% जीएसटी की समीक्षा अगले छह महीने में की जाएगी। बैठक में विदेशी गेमिंग कंपनियों पर भी सख्ती करने पर सहमति बनी है।

Continue Reading

kaam ki baat

बर्नआउट नहीं होने देते छोटे-छोटे ब्रेक्स

Published

on

By

अक्सर हम काम करते- करते थक जाते हैं, तो किसी पर भी झल्ला पचटते हैं, फोकस नहीं  कर पाते. इस दौरान बर्नआउट होना स्वाभाविक है. अपनी मेंटल हेल्थ को बनाए रखने  के लिए तनाव को दूर करना ज़रूरीहै. अक्सर देखा जाता है कि हम ऑफिस के काम को लेकर तनाव में रहते हैं. ऑफिस स्ट्रेस का  हमारी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है. जिसके कारण ढेरों बीमारियां और इंफेक्शन हमें घेर लेते हैं. माइंड को रिलैक्स रखने और वर्कप्लेस पर तनाव को दूर करने के लिए इन टिप्स को अपने रूटीन में शामिल करें-

ब्रेक जरूर  लें :  ऑफिस में लगातार काम करने से बचें. ब्रेक लेकर थोड़ा टहलें. इसके अलावा रिलैक्स होने के लिए सीधे खड़े होकर अपने हाथों को इधर-उधर घुमाएं. इस दौरान ऑफिस मे करने वाले सहयोगियों से बातचीत करें.

काम की लिस्ट  बना लें :  ऑफिस में कामों की सूची बना लें. इससे काम मे लगने वाला समय पता चल जाएगा. हर काम को बराबर समय मिल जाएगा और कोई काम भी नहीं छुटेगा. इससे तनाव कम हो जाएगा.

  काम पर फोकस : ऑफिस काम करने के दौरान कई तरह से आपका काम डिस्टर्ब होता है. इसमें फोन कॉल और ईमेल आना है. इसके बार-बार चेक करने से भी तनाव बढ़ता है. आप इसके लिए एक समय निर्धारित कर दें. जिससे आप अपने काम पर फोकस कर सकेंगे और तनाव से दूर रहेंगे.

पर्याप्त नींद जरूरी : ऑफिस के तनाव के कारण लोगों रात को नींद नहीं आती है. इससे आपका तनाव और ज्यादा बढ़ जाता है और साथ ही बीमार हो जाते हैं. इसलिए पर्याप्त नींद लेनी चाहिए. इससे तनाव कम हो जाता है.

Continue Reading

kaam ki baat

नोटबंदी नहीं, चलन से बाहर हो रहा है 2000 का नोट

Published

on

By

नागपुर चेंबर ऑफ कॉमर्स ने कहा – अफवाहों से दूर रहें

नागपुर. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा 2000 रुपये के नोट पर फैसला लिया गयाहै. जिसके अनुसार 2000 रुपये का नोट लीगल टेंडर तो बना रहेगा, लेकिन इसे सर्कुलेशन से बाहर कर दिया जाएगा। आरबीआई के इस फैसले को लेकर नागपुर चेंबर ऑफ कॉमर्स ने एक अर्जेंट मीटिंग बुलाई।इस मीटिंग में अध्यक्ष गोविंद पसारी, पूर्व अध्यक्ष कैलाश जोगानी,सचिव तरुण निर्बाण. विजय जयसवाल,प्रदीप जाजू .विपिन पनपालिया.निक़िल काकानी.वसंत पालीवाल  सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

एनसीसीएल के पूर्व अध्यक्ष,सीए कैलाश जोगानी ने बताया कि 2000 रुपये के नोट को लेकर क‌ई तरह की चर्चाएं सोशल मीडिया पर चल रही है और इसे नोटबंदी बताया जा रहा है जबकि यह नोटबंदी नहीं है। 2000 रुपये का नोट लीगल टेंडर बना रहेगा। अतः व्यापारियों और आम लोगों को घबराने या परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है।जोगानी ने बताया कि 2016 में नोटबंदी के समय नोटों की कमी न होने देने, सर्कुलेशन बना‌ए रखने और लोगों को असुविधा से बचाने के लिए सरकार 2000 रुपये का नोट लाई थी। 2018-19 से ही आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट छापना बंद कर दिया था। आरबीआई ने बैंकों को यह सर्कुलर जारी कर दिया है कि अब बैंक विडरावल में 2000 रुपये के नोट नहीं देगा, लेकिन हमसे 2000 रुपये के नोट लेगा।आज किसी को भी 2000 रुपये के नोट को लेकर घबराने की जरुरत नहीं है क्योंकि व्यापारी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा।व्यापारी अपने खातों में रोज की तरह 2000 रुपये के नोट भर सकते हैं। हां, जिन्हें 2000 रुपये के नोट बदलने हैं वे एक बार में 20,000 रुपये के नोट एक्सचेंज कर सकते हैं। इसके लिए भी 30 सितम्बर 2023 तक की अवधि दी गई है।

Continue Reading

Trending