26 दवाओं से कैंसर का खतरा

Spread with love

जानें, स्वास्थ्य मंत्रालय ने किन दवाओं के सूची से हटाए नाम

नई दिल्ली. देश में कई मेडिसिन ऐसी  हैं, जो लोग बिना डॉक्टरों की सलाह से ले रहे हैं। इनके सेवन से वे कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी का शिकार हो सकते है. यह देखते हुए केंद्र सरकार ने कैंसर होने की चिंता को लेकर लोकप्रिय एंटासिड सॉल्ट रैनिटिडिन को आवश्यक दवाओं की सूची से हटा दिया है। रैनिटिडीन लोकप्रिय रूप से एसीलोक, ज़िनेटैक, और रैंटैक ब्रांड नामों के तहत बेची जाती है और आमतौर पर पेट दर्द से संबंधित समस्या के लिए इस दवा को लिया जाता है। केंद्र ने कुल 26 दवाओं को इस सूची से हटाया है। सूची से हटाई गई 26 दवाओं का देश में अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।

रैनिटिडिन से हो सकता है कैंसर

निटिडिन दवा की जांच 2019 से चल रही है जब अमेरिका स्थित खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने दवा में संभावित कैंसर पैदा करने वाले एसिड पाए थे। दवा नियामकों ने रैनिटिडिन युक्त दवाओं के नमूनों में कैंसर पैदा करने वाली अशुद्धता एननाइट्रोसोडिमिथाइलमाइन (एनडीएमए) को पाया गया था। जिससे कैंसर फैलने की आशंका रहती है। रैनिटिडिन के अलावा जिन अन्य दवाओं को सूची से हटाया गया है उसके कई प्रकार की गंभीर बीमारियां होने की आशंका है। इनमें कई दवाएं ऐसी भी हैं जिनकी काफी ज्यादा बिक्री होती है।

इन 26 दवाओं को हटाया गया

1. अल्टेप्लेस

2. एटेनोलोल

3. ब्लीचिंग पाउडर

4. कैप्रोमाइसिन

5. सेट्रिमाइड

6. क्लोरफेनिरामाइन

7. दिलोक्सैनाइड फ्यूरोएट

8. डिमेरकाप्रोलो

9. एरिथ्रोमाइसिन

10. एथिनिल एस्ट्राडियोल

11. एथिनिल एस्ट्राडियोल (ए) नोरेथिस्टरोन (बी)

12. गैनिक्लोविर

13. कनामाइसिन

14. लैमिवुडिन (ए) + नेविरापीन (बी) + स्टावूडीन (सी)

15. लेफ्लुनोमाइड

16. मेथिल्डोपा

17. निकोटिनामाइड

18. पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा 2ए, पेगीलेटेड इंटरफेरॉन अल्फा 2बी

19. पेंटामिडाइन

20. प्रिलोकेन (ए) + लिग्नोकेन (बी)

21. प्रोकार्बाज़िन

22. रैनिटिडीन

23. रिफाब्यूटिन

24. स्टावूडीन (ए) + लैमिवुडिन (बी)

25. सुक्रालफेट

26. सफेद पेट्रोलेटम

Leave a Reply

Your email address will not be published.