3 किमी. पैदल चलने के बाद मिलता है पानी

Spread with love

अमरावती (महाराष्ट्र). मेलघाट के कई गांव पानी की गंभीर समस्या है। जिस वजह से ग्रामीणों को गहरे कुओं में उतरना पड़ रहा है और एक घड़ा पानी लाने के लिए नंगे पैर पर्वतीय क्षेत्र में  चलना पड़ रहा है। हालांकि स्थानीय प्रशासन पानी के टैंकरों को भेजता है, लेकिन ग्रामीणों की शिकायत है कि आपूर्ति अपर्याप्त है और पानी पीने के लायक नहीं है।

जोखिम में डालनी पड़ती है जान

मेलघाट टाइगर रिजर्व से लगभग 50 किलोमीटर दूर सतपुड़ा पर्वत श्रृंखला में स्थित खादीमल आदिवासी बहुल गांव  की करीब 1,500 की आबादी है और 311 घर हैं। गांव में पानी की किल्लत एक चिरस्थायी समस्या है। स्थानीय लोगों के मुताबिक, यह नवंबर से शुरू होती है और फरवरी तक गंभीर हो जाती है।  स्थानीय निवासी सूरज पाटील  ने कहा कि गांव में चार कुएं थे जो बहुत पहले सूख गए और गांव में एक बोरवेल है जो खराब पड़ा है।

उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन दिन में दो बार एक टैंकर भेजता है जो गांव में स्थित एक कुएं में पानी को डालता है। एक महिला निवासी ने कहा, “सिर्फ एक घड़ा पानी लाने के लिए, हम गहरे कुएं में नीचे उतरते हैं और फिर सिर पर पानी के घड़े को रखकर संतुलित होते हुए ऊपर चढ़ते हैं। हमें अपनी जान जोखिम में डालनी पड़ती है।” लोग पानी लाने के लिए इस भीषण गर्मी में तीन किलीमीटर पैदल चल कर जाते हैं। ग्रामीणों ने कहा कि मवेशियों को भी कई बार प्यासा रहना पड़ता है।  सरपंच ग्रामीणों की परेशानी सुनने के लिए मुश्किल से ही आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *