क्या आपको डायबिटीज है….शुगर कैसे कंट्रोल करें, जानें यहां

Spread with love

ज बदलती जीवन शैली और खान-पान के कारण डायबिटीज एक आम बीमारी बन गई है। यही कारण है कि बच्चे,युवा से लेकर बूढ़े लोग तक इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। शुगर की बीमारी को साइलेंट किलर भी कहा जाता है। हमारे देश में 6 करोड़ से अधिक लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं। 

यह एक ऐसा रोग है जो धीरे-धीरे शरीर को खोखला कर देता है। एक बार यह बीमारी हो जाए और इसे नजरअंदाज किया जाए तो इसका जीवनभर साथ रहता है। 

डायबिटीज के प्रति जागरूकता की कमी की वजह से शुगर पेशेंट बीमारी को हल्के में लेता है। वह बीमारी से जुड़े कई सवालों के बीच में फंस जाता है। लेकिन उसको सही जवाब नहीं मिल पाता है। फिर वह एलौपेथि इलाज के चक्कर में पड़ता है। जहां उसको कोई फायदा नहीं होता। आयुर्वेद में इस बीमारी का सटीक इलाज है। कुछ समय जरूर लगता है लेकिन मरीज को फायदा भी मिलता है और दवाओं का साइड इफेक्ट भी नहीं होता है ।

क्या शुगर कंट्रोल हो सकती है?

शिवशंकर आयुर्वेदिक एजेंसी के Dr. Atul Telrandhe बताते हैं कि आयुर्वेद एक प्राचीन शास्त्र है। इसमें प्रमेह के 20 वें प्रकार के रूप में मधुमेह का उल्लेख किया गया है। शुगर या डायबिटिस 3 प्रकार की होती है। टाईप-1, टाईप-2 और गर्भावस्था में होने वाली शुगर। वे बताते हैं कि मधुसूदन डीएक्स कैप्सूल, मधुसूदन पाऊडर, शिलाजीत रस , वसंतकुसुमागर रस आदि आयुर्वेदिक औषधियां डायबिटीज में अत्यंत लाभकारी हैं। इन दवाओं से न केवल शुगर लेबल में आती है बल्कि डायबिटीज से होने वाली अन्य बीमारियों में भी लाभ मिलता है। लेकिन इन्हें किसी चिकित्सक से परामर्श करने के बाद ही लेना चाहिए।

शिवशंकर आयुर्वेद एजेंसी ही क्यों?

वैसे तो डायबिटीज का इलाज कई जगह होता है लेकिन शिवशंकर आयुर्वेद एजेंसी की यह खासियत है कि  यहां अनुभवी वैद्य सलाहकारों और चिकित्सकों व्दारा शुगर पेशेंट का न केवल इलाज किया जाता है बल्कि उनका मार्गदर्शन भी किया जाता है। उन्हें ये भी बताया जाता है कि कैसे संतुलित आहार और नियमित दिनचर्या में बदलाव करके भी शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है। यही वजह है कि यहां दूर-दूर से मरीज आते हैं। 

 Creadit/ Shankhnaad News

Leave a Reply

Your email address will not be published.